जीरो टू वन बुक इन हिन्दी : Zero To One Book In Hindi

Peter Theil

पीटर थिएल एक उद्यमी (Entrepreneur) और निवेशक हैं। 

जिन्होंने ज़ीरो टू वन किताब को लिखा है , उन्होंने 1998 में पेपाल शुरू किया, और इसे सीईओ के रूप में आगे बढ़ाया और 2002 में इसे सार्वजनिक किया, जो तेजी से और सुरक्षित ऑनलाइन कॉमर्स के एक नए युग को परिभाषित करता है।

2004 में फ़ेसबुक में पहला बाहरी निवेश उन्होंने ही किया, जहाँ वे एक निर्देशक के रूप में कार्य करते हैं। 

उसी वर्ष उन्होंने एक सॉफ्टवेयर कंपनी Palantir Technologies लॉन्च की, जो राष्ट्रीय सुरक्षा और वैश्विक वित्त (global finance) जैसे क्षेत्रों में मानव विश्लेषकों को सशक्त बनाने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करती है।

उन्होंने लिंक्डइन, येल्प और दर्जनों सफल टेक्नॉलजी स्टार्टअप के लिए शुरुआती धन मुहैया कराया है, जो पूर्व सहयोगियों द्वारा चलाए गए हैं, जिन्हें “पेपल माफिया” कहा जाता है। 

वह फाउंडर्स फंड, सिलिकॉन वैली वेंचर कैपिटल फर्म में एक साझेदार है, जिसने स्पेसएक्स और एयरबीएनबी जैसी कंपनियों को वित्त पोषित किया है।

उन्होंने थिएल फैलोशिप की शुरुआत की, जिसने युवाओं को स्कूली शिक्षा से पहले सीखने के लिए प्रोत्साहित करके एक राष्ट्रीय बहस को प्रज्वलित किया और वह थिएल फाउंडेशन का नेतृत्व करते हैं,

जो तकनीकी प्रगति और भविष्य के बारे में LONG TERM सोच को आगे बढ़ाने का काम करता है।

परिचय (Introduction)

Zero To one book summary in hindi

जीरो टू वन, इस किताब को Peter Thiel और Blake master के द्वारा लिखा गया है|

थिल एक दिग्गज उद्यमी (legendary entrepreneur) और निवेशक है।

यह किताब आपको यह बताता है कि कैसे हम उन नई चीजों को बनाने के लिए हम असामान्य तरीके खोज सकते हैं। थिल अपनी शरुआत हमेशा विपरीत आधार से शुरू करते है|

वे कहते है कि हम भले ही तकनीकी ठहराव (technology stagnant) के युग में रहते हैं, भले ही हम मोबाइल उपकरणों से बहुत विचलित हों।

तब भी हम नई चीजों को खोज सकते है|

नोट का सार (Summary Notes)

जीरो टू वन में, पेपाल के Co-Founder और Venture capitalist पीटर थिल कहते हैं कि नई चीजें बनाना आर्थिक रूप से लाभ कमाने का सबसे अच्छा तरीक़ा है, साथ ही मानव प्रगति के लिए एकमात्र रास्ता है।

हालांकि, आज Technology स्थिर हो गई है। 

हम जो करते हैं या बनाते हैं, उसमें से ज्यादातर वही रहता है जो पहले से बनाया जा चुका है। 

क्योंकि कुछ नया बनाने की अपेक्षा कॉपी करना आसान है। 

थिल कहते है कॉपी करना या पहले से बने चीजों को अपडेट करना यह दुनिया को 1 से n की तरफ़ ले जाता है, हालाँकि, कुछ पूरी तरह से नया बनाना हमें 0 से 1 तक ले जाता है।

थिल कहते है बिज़नस में हर चीज एक ही बार होती है। अगला बिल गेट्स Operating System नहीं बनाएगा।

अगले LERY PAGE या SERGIE BRIN सर्च इंजन नहीं बनाएगा और अगला Mark juckerberg सोशल नेटवर्क साइट नहीं बनाएगा। 

अगर आप इन लोगों को copy कर रहे है तो आप इनसे कुछ नहीं सीख रहे।

ग्रोथ Horizontal या Vertical हो सकती है। सफलता की नक़ल करना Horizontal Progress के समान हैं-जो 1 से N तक जाता है। 

इस तरह के उन्नति को कल्पना करना आसान है क्योंकि यह वर्तमान में पहले से मौजूद है।

Vertical Progress के लिए पूरी तरह से कुछ नया करने की आवश्यकता होती है—0 से 1 तक जाना यह कल्पना करना अधिक कठिन है क्योंकि हमने इसे पहले कभी नहीं देखा है इसलिए यह मार्केट में Monopoly बनाने में मदद करता है।

उदाहरण के लिए, एक टाइपराइटर के साथ शुरू करना और 100 टाइपराइटर का निर्माण करना Horizontal Progress (कुछ नक़ल करना) है।

 वहीं दूसरी तरफ़, टाइपराइटर के साथ शुरू करना और एक वर्ड प्रोसेसर का निर्माण Vertical Progress (कुछ नया बनाना) है।

Technology, 0 से 1 तक जा रही है, तो यह Vertical Progress है-इसमें कुछ भी नया और बेहतर शामिल है, जो सिर्फ़ कंप्यूटर तक सीमित नहीं है।

जीरो टू वन बूक से सीखने वाली 5 बातें

0 से 1 के तरफ बढ़े , 1 से N नहीं

बेशक, एक मॉडल की नक़ल करना कुछ नया करने की तुलना में आसान है। 

वह करना जो हम पहले से ही जानते हैं कि कैसे करना है दुनिया को 1 से n तक ले जाता है, लेकिन हर बार जब हम कुछ नया बनाते हैं, तो हम 0 से 1 तक जाते हैं

1 से N तक जाना एक मौजूदा मॉडल की नक़ल करना होता है, लेकिन 0 से 1 तक जाना कुछ नया और कुछ ताज़ा करने प्रयास होता है। 

जब बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट वर्ड बनाया, तो उनकी कंपनी 0 से 1 तक गई। जब लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने Google बनाया, तो उनकी कंपनी 0 से 1 हो गई।

हालाँकि, जब Microsoft ने Google को कॉपी करने की कोशिश की और बिंग बनाया, तो यह 1 से n का क्षण था। 

इसी तरह, जब Google ने Microsoft की कॉपी करने की कोशिश की और Google डॉक्स बनाया, तो भी यह 1 से n क्षण था।

थिल स्टार्टअप्स के महत्त्व को नोट करते है क्योंकि अधिकांश स्टार्टअप कुछ नया बनाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, 0 से 1 तक जा रहे हैं। 

स्टार्टअप जोखिम को गले लगाते है जो की दुनिया को बेहतर बनाने के लिए एक मिशन है, जबकि established corporation जोखिम से दूर भागते हैं और अपने revenue में सुधार करने में लगे रहते है।

प्रत्येक क्षण एक बार होता है|

थिल का मानना है कि व्यापार में प्रत्येक क्षण केवल एक बार होता है।

अगले बिल गेट्स एक operating system का निर्माण नहीं करेंगे। अगला lery page या sergie brin सर्च इंजन नहीं बना सकता और अगले mark juckerberg सोशल नेटवर्क साइट नहीं बनाएंगे।

 यदि आप इन लोगों को कॉपी कर रहे हैं, तो आप उनसे सीख नहीं रहे हैं।

Entrepreneur सीखने का कोई फार्मूला नहीं है|

Entrepreneurship सीखने का कोई फार्मूला नहीं है, क्योंकि इसमे हर एक इनोवेशन नया और अनोखा होता है, कोई भी अथॉरिटी इस बात को ठोस रूप से नहीं बता सकती कि कैसे ज़्यादा इनोवेटिव होना चाहिए।

वास्तव में, मैंने देखा है कि सबसे शक्तिशाली पैटर्न यह है कि सफल लोग unexpected तरीकों से अपना मूल्य खोज लेते हैं,

और वे ऐसा इसलिए कर पाते है क्योंकि वे सूत्रों के बजाय अपने व्यापार के सिद्धांतों के बारे में सोचकर ज़्यादा काम करते हैं।

प्रगति Monopoly से आती है, प्रतिस्पर्धा से नहीं

एक Competitive Business में मुनाफे की कमी की समस्या हमेशा रहती है। 

उदाहरण के लिए, आप माउंटेन व्यू में उन Restaurant में से एक चला रहे हैं और अगर आप अपने दर्जनों competitors से अलग नहीं हैं, तो आपको जीवित रहने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी।

यदि आप कम मार्जिन के साथ सस्ती भोजन की पेशकश करते हैं, तो आप शायद कर्मचारियों को केवल न्यूनतम वेतन का भुगतान कर सकते हैं|

और आपको अपनी हर छमता को निचोड़ने की आवश्यकता होगी: यही कारण है कि छोटे Restaurant में दादी को रजिस्टर में काम करने के लिए और बच्चों को पीछे बर्तन धोने के लिए रखा जाता है।

Google जैसा Monopoly बनाना अलग है।

क्योंकि इसमें किसी के साथ प्रतिस्पर्धा करने की चिंता नहीं है, इसलिए इसके वर्कर्स और इसके प्रोडक्टस का पूरी दुनिया पर इसका प्रभाव वक़्त के साथ बढ़ता जा रहा है। 

Google का आदर्श वाक्य है-“बुराई मत करो”-एक ब्रांडिंग चाल, लेकिन यह भी एक तरह का व्यवसाय है, जो अपने अस्तित्व को खतरे में डाले बिना नैतिकता को गंभीरता से लेने के लिए पर्याप्त रूप से सफल है।

व्यापार में, या तो पैसा एक महत्त्वपूर्ण चीज है या सब कुछ। 

Monopolists पैसा बनाने के अलावा अन्य चीजों के बारे में सोच सकते हैं; जबकि सही प्रतिस्पर्धा में Non-Monopolists ऐसा नहीं कर सकते, Perfect Competition एक व्यवसाय है|

जो आज के मार्जिन पर केंद्रित है और यह संभवतः Long term भविष्य के लिए योजना नहीं बन सकता है। 

केवल Monopoly Profits एक व्यवसाय को अस्तित्व में बनाए रखने के लिए रोज़ के संघर्ष को पार करने की अनुमति देती है।

तो Monopoly अंदर से सभी के लिए अच्छा है,
एक Monopoly मार्केट बनाना कस्टमर को अच्छा वैल्यू प्रदान करता है। 

यदि आप किसी चीज के लिए बाज़ार में एकमात्र विकल्प हैं, तो आप क़ीमत को बढ़ा सकते हैं; दूसरों के पास आपसे खरीदने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा।

लेकिन जिस दुनिया में हम रहते हैं वह गतिशील (Dynamic) है। हम नई और बेहतर चीजों का आविष्कार कर सकते हैं। 

क्रिएटिव मोनोपोलिस्ट दुनिया में पूरी तरह से नई श्रेणियों को जोड़कर ग्राहकों को अधिक विकल्प देते हैं। 

रचनात्मक एकाधिकार (Monopoly) सिर्फ़ समाज के लिए नहीं, बल्कि इसे बेहतर बनाने के लिए एक शक्तिशाली इंजन हैं।

अंतिम चाल भी , आपको पहला स्थान प्राप्त करवा सकती है|

आपने शायद “First mover advantage” के बारे में सुना है: यदि आप एक बाज़ार में पहले प्रवेश करते हैं, तो आप मार्केट में महत्त्वपूर्ण हिस्सेदारी पर कब्जा कर सकते हैं|

जबकि प्रतिस्पर्धी शुरू करने के लिए संघर्ष करना पड़ता हैं।

यह काम भी करता है, लेकिन पहले बढ़ना एक नीति है, लक्ष्य नहीं। 

जो वास्तव में यह मायने रखता है कि आप भविष्य में Cash flow कैसे उत्पन्न करेंगे, तो “First mover advantage” में कोई भी आपकी बराबरी कर सकता है या आपसे आगे निकल सकता है।

इससे अच्छा विकल्प यह है कि आप Last mover बनने का सोचे-अर्थात्, एक विशिष्ट बाज़ार के अंतिम में महान विकास करना और वर्षों तक Monopoly मार्केट का आनंद लेना।


रिव्यू

  • “” स्पष्ट रूप से लिखित, ज़ीरो टू वन बुक को केवल aspiring entrepreneurs द्वारा नहीं पढ़ा जाना चाहिए, बल्कि उन सबको पढ़ना चाहिए जो दुनिया में change और कुछ नया लाने की कोशिश कर रहे है “”
    -अर्थशास्त्री
  •  “मैंने शायद अब तक की सबसे अच्छी व्यवसायी की पुस्तक पढ़ी है … मुस्किल से 200 pages लंबे और अच्छी तरह से clear और facts द्वारा प्रकाशित, थिल ने पूरी तरह से एक सोचा-समझा हैंडबुक लिखा है।”
    डेरेक थॉम्पसन, द अटलांटिक
  • “यह पुस्तक दुनिया में value बनाने के तरीके पर पूरी तरह से नए और ताज़ा विचार प्रस्तुत करती है।”
    -मार्क जुकरबर्ग, फ़ेसबुक के सीईओ
  • “” पीटर थिल ने कई सफल कंपनियों का निर्माण किया है और जीरो टू वन बुक यह दर्शाता है। ”
    -एलोन मस्क, स्पेसएक्स और टेस्ला के सीईओ
  • ‘ जब कोई जोखिम लेने वाला किताब लिखता है, तो उसे पढ़ें। पीटर थिएल के मामले में, इसे दो बार पढ़ें। या, सुरक्षित होने के लिए, तीन बार पढे, यह एक उत्कृष्ट किताब है।
    -नासीम निकोलस तालेब, द ब्लैक स्वान के लेखक

       ज़ीरो टू वन Book Summary आपको कैसा लगा?कमेन्ट मे जरूर बताए और क्या आप भविष्य मे और बिजनस से जुड़े Book Summary पढ़ना चाहते है ,तो उस किताब का नाम नीचे जरूर लिखे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *